बिहार समाचार

अब नीतीश कुमार जदयू कोर कमेटी की बैठक में तय करेंगे नोटबंदी पर आगे की राह

Get Rs. 40 on Sign up
केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले को समर्थन देनेवाले जदयू ने 23 जनवरी को अपनी कोर कमेटी की बैठक बुलायी है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को यह जानकारी दी. माना जा रहा है कि इस बैठक में नोटबंदी पर अब तक के पार्टी के स्टैंड और आगे की रणनीति पर विचार किया जायेगा.
सोमवार को लोक संवाद कार्यक्रम के बाद संवाददाताओं ने नोटबंदी पर महागंठबंधन में अलग-अलग स्टैंड को लेकर सवाल किये, तो मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लालू जी और कांग्रेस के साथ हैं, तभी तो  महागंठबंधन की सरकार चल रही है. इस पर कोई सवाल ही नहीं है. नोटबंदी  के साथ हमलोगों ने बेनामी संपत्ति और काले धन पर कार्रवाई की बात की है.  उन्होंने कहा कि 21 जनवरी की मानव शृंखला के बाद 23 जनवरी को  को पार्टी कोर कमेटी की  बैठक होगी. अभी हमारे एजेंडे में नशामुक्ति अभियान है, मीडिया अपनी ओर से एजेंडा तय नहीं करे. सीएम ने कहा कि शराबबंदी का प्रधानमंत्री  ने समर्थन किया है. गुजरात में भी यह लागू है, तो इसका  प्रसार होना चाहिए.
मंच पर आये तीन प्रतिद्वंद्वी बादल, केजरीवाल और कैप्टन अमरिंदर 
प्रकाश पर्व के मुख्य कार्यक्रम में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के नीचे बैठने को लेकर छिड़ी चर्चा पर मुख्यमंत्री ने कहा कि समारोह गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने आयोजित किया था. मुख्य समारोह में मंच पर बैठने का निर्णय यहां से नहीं हुआ. लालू जी ने भी इस पर ठीक ही बयान दिया है. वह वहीं बैठ कर प्रसन्न थे. किसी ने ऊपर बैठक कर मत्था टेका है क्या?
क्या यह सिख समाज की परंपरा है? सिख में सब जमीन पर बैठते हैं. जाे मंच पर बैठे थे, वे भी जमीन पर ही थे. एक तरफ बिहार की चारों ओर प्रशंसा हो रही है. एक ही साथ पंजाब के तीन प्रतिद्वंद्वी प्रकाश पर्व में आये. अरविंद केजरीवाल, कैप्टन अमरेंद्र सिंह और प्रकाश सिंह बादल ने प्रशंसा की. बादल ने तो कहा कि हम पंजाब में भी ऐसा नहीं कर सकते थे और ये लोग जमीन पर बैठक को लेकर परेशान हैं. इसे ही कहते हैं सोच.  चंद लोगों की सोच और नजरिया बदल नहीं सकती है. इनमें थोड़ा बहुत तो बदलाव लाएं. हम प्रार्थना करते हैं  कि इनमें कुछ तो बदलाव आएं.
 
थोड़ा तो सुधरिए
मुख्यमंत्री ने कहा कि इतना सफल और भव्य आयोजन हुआ. इसमें बिहार सरकार के साथ-साथ आम लोगों की भागीदारी हुई. मैं इस तरह की मीन-मेख निकालनेवालों से कहेंगे कि थोड़ा तो सुधरिए.  बिहार दूसरी दिशा में जा रहा है. इसके लिए हमलोगों ने कितना प्रयास किया.सामाजिक कार्यक्रम में कोई राजनीति नहीं
शराबबंदी पर पीएम के समर्थन के बाद भाजपा से नजदीकी संबंधी प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि सामाजिक काम में कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए. 350वें प्रकाश पर्व और बापू की चंपारण सत्याग्रह के सौवें साल पर हमने शराबबंदी की बात की है. हमने तय किया है कि इस मौके पर नयी पीढ़ी तक गांधी जी की विचारों को पहुंचायेंगे. वैसे ही जैसे तय किया था कि प्रकाश पर्व पूरे बिहार में होगा. 21 जनवरी को 11 हजार किमी में मानव शृंखला में दो करोड़ लोगों के  शामिल होने का विश्व रिकाॅर्ड बनेगा. इसके बाद कोई पोलिटिकल बात करियेगा. वे लोग शराबबंदी का मजाक उड़ा रहे थे. 21 जनवरी की मानव शृंखला में उन्हें जवाब मिल जायेगा. सभी दलों के लोगों से इसमें शामिल होने की अपील करेंगे.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हर माह के चाैथे सोमवार को महागंठबंधन के जनता दरबार का आयोजन होगा. 30 जनवरी को महागंठबंधन का पहला दरबार होगा. इसमें कैबिनेट के सभी मंत्री शामिल होंगे. इसके बाद दो माह तक  यानी 22 मार्च तक नशामुक्ति  अभियान चलेगा. इसके बाद आप लोगों की इच्छा के  अनुसार के सवाल का जवाब दिया  जायेगा. ममता बनर्जी के किशनगंज में होनेवाले कार्यक्रम से  संबंधित प्रश्न पर उन्होंने कहा कि सभी दल को अपनी  राजनीतिक गतिविधियां चलाने का अधिकार है.
23 जनवरी को कोर कमेटी की बैठक बुलायी है. इसमें नोटबंदी पर भी गहन चर्चा होगी.  जदयू इस फैसले को काला धन समाप्ति की दिशा में एक अच्छा कदम मान कर इसका स्वागत भी कर चुका है. हालांिक, इससे किसान, मजदूर, छोटे व्यापारी, छोटे उद्योग परेशान भी हुए हैं.
केसी त्यागी, राष्ट्रीय महासचिव, जदयू

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Close