देश विदेश

कायम रही हुकूमतः जिसके कारण सपा में शुरू हुई रार, भारी मतों से जीत गए वे मुख्तार

Get Rs. 40 on Sign up

मऊ सदर सीट पर बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी ने भाजपा की सुनामी में भी जीत का परचम लहरा दिया हैं.  उन्होंने भाजपा प्रत्याशी महेंद्र राजभर को 97,199 वोटों से हराया है.

Image result for MUKHTAR ANSARI

मऊ में बसपा से मुख्तार अंसारी 97,199 वोटों के भारी अंतर  से जीत हासित करने में कामयाब रहे.. मऊ की यही एक सीट ऐसी है जहां भाजपा को हार मिली है. यह जीत तब है जब सुप्रीम कोर्ट के आदेश से उन्हें चुनाव के दौरान अपने विधानसभा क्षेत्र में जाने नहीं दिया गया. जेल में बंद मुख्तार की यह लगातार पांचवी जीत है. हालांकि उनके सभी नाते-रिश्तेदार व करीबी चुनाव में खेत रहे.

गौरतलब है कि अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के बीच संग्राम की शुरुआत मुख्तार अंसारी के कारण ही हुई थी. मुख्तार की पार्टी कौमी एकता दल का मुलायम सिंह ने सपा में विलय कर लिया था. शिवपाल यादव भी इसके प्रबल समर्थक थे. लेकिन अपनी स्वच्छ छवि बनाने में जुटे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इसका खुलकर विरोध कर दिया. अंततः मुलायम सिंह को बेटे के आगे झुकना पड़ा. और फिर मुख्तार के मामले से ही सपा के अंदर घमासान की नींव पड़ गई. बाद में  साइकिल से उतारे गए मुख्तार अंसारी ने हाथी की सवारी कर ली. बसपा सुप्रीमो मायावती ने उन्हें और उनके पूरे लाव-लश्कर को चुनाव में टिकट देकर मैदान में उतार दिया.

इधर, घोषी सीट से  मुख्तार अंसारी के बेटे व बसपा प्रत्याशी अब्बास अंसारी  हार गए हैं. उन्हें  भाजपा उम्मीदवार फागू चौहान ने हराया है. मऊ जिले की चार सीटों में तीन सीटों पर भाजपा का परचम लहराया है. मुख्तार अंसारी के भाई सिबगतुल्ला अंसारी भी चुनाव हार गए हैं. वो मोहम्मदाबाद सीट से बसपा प्रत्याशी थे. उन्हें भाजपा प्रत्याशी अलका राय ने शिकस्त दी है.

चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री ने मऊ में बहुचर्चित फिल्म ‘बाहुबली’ का उदाहरण देते हुए पूर्वांचल के बाहुबलियों को कड़ा सन्देश दिया था. पीएम मोदी ने कहा था कि फिल्म के एक प्रमुख किरदार कटप्पा ने बाहुबलियों का सफाया किया था. मोदी ने पास में खड़े व्यक्ति की छड़ी की तरफ इशारा करते हुए कहा था कि यह छड़ी भी कटप्पा की तरह ही बाहुबलियों का सफाया करेगी। यह छड़ी नहीं बल्कि कानून का डंडा है.
11 मार्च के बाद सारे खेल खत्म हो जाएंगे. उन्होंने कहा था कि यहां के बाहुबली मुस्कुराते हुए जेल जाते है, क्योंकि यहां जेल से ही गैंग चलता है. बाहुबलियों के लिए जेल महल होती है. सारा सुख वैभव जेल में होता है. जेल में पूरी सुरक्षा होती है. कोई घटना होती है तो कह देता है कि मैं जेल में हूं. पीएम ने चेतावनी दी कि बीजेपी सरकार में जेल का मतलब पता चल जाएगा. जो लोग जेल में खाना पहुंचाते हैं उनको मेरा संदेश पहुंचा देना कि जमाना बदल गया है. 11 मार्च के बाद जेल को जेल बना देंगे.
मुख्तार अंसारीः एक नजर
http://i9.dainikbhaskar.com/thumbnail/680x588/web2images/www.bhaskar.com/2016/06/20/mukhtar-ansari3_146642522.jpg
– माफिया और गैंगेस्टर से राजनीतिज्ञ बने मुख्तार अंसारी गाजीपुर के रहने वाले हैं .
-मुख्तार ने पहले दो चुनाव बसपा के टिकट पर जीते और बाद में दो चुनाव निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीते.
-मऊ मुस्लिम बहुल विधानसभा क्षेत्र है,  इसीलिए मुख्तार इस सीट से चुनाव लड़ना पसंद करते हैं,  जबकि उनके विपक्षी हिंदू वोटों पर निर्भर रहते हैं.
-जाति के आधार पर हिंदू वोटों के बंटवारे के कारण मुख्तार को जीत मिलती रही है.
-मुख्तार के कारण ही मऊ साम्प्रदायिक रुप से संवेदनशील रहा है.

Image result for MUKHTAR ANSARI
क्यों कहलाते हैं बाहुबली 
-बीजेपी के विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के जुर्म में मुख्तार अंसारी अभी जेल में हैं.
– मोहम्मदाबाद  से विधायक कृष्णानंद राय पर 29 नवंबर 2005 को एके-47 रायफल से गोलियां चलाईं गई थीं .
-उनके शरीर से 67 गोलियां पाई गईं थीं. दिनदहाड़े हुई इस हत्या में कुल छह लोग मारे गए थे.
-कृष्णानंद राय की हत्या के मुख्य गवाह शशिकांत राय की 2006 में रहस्यमय तरीके से मौत हो गई थी.
-अन्य मामलों के अलावा कृष्णानंद राय की हत्या मामले में मुख्तार मुख्य आरोपी हैं.
-कभी बसपा प्रमुख मायावती को मुख्तार और उनके भाई अफजाल ने ये कहा था कि उन्हें हत्या के मामले में फंसाया गया है.
-कपिल देव सिंह की 2009 अप्रैल में हुई हत्या के आरोप में मुख्तार और दो अन्य लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया था.
-बसपा से निकाले जाने और अन्य किसी पार्टी में जगह नहीं मिलने के बाद मुख्तार और उनके भाई अफजाल,सिगबतुल्लाह ने अपनी पार्टी कौमी एकता दल बना ली .
-इस चुनाव के पहले तक कौमी एकता दल के दो विधायक हैं.
-मुख्तार के अलावा उनके भाई सिगबतुल्ला मोहम्मदाबाद सीट से विधायक थे. उन्हें भाजपा की अलका राय ने इस बार हराया है.

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close