बिहार समाचार

छठ घाटों पर दहेज और बाल विवाह के खिलाफ दिखेगा संदेश

Get Rs. 40 on Sign up

छठ घाटों की तैयारी के साथ-साथ पटना नगर निगम घाट पर व्रतियों को दहेज मुक्त विवाह का संदेश भी देगा। इसके साथ ही बाल विवाह जैसी बुराइयों को खत्म करने का भी अभियान चलाएगा। इसके लिए निगम के सभी घाटों पर इससे संबंधित बैनर और पोस्टर लगाए जा रहे हैं। नगर आयुक्त अभिषेक सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दहेज मुक्त और बाल विवाह मुक्त बिहार बनाने का संकल्प लिया है

छठ घाटों पर इन बुराइयों के खिलाफ सकारात्मक संदेश देने का प्रयास निगम द्वारा किया जा रहा है। इन बैनरों को ऐसे स्थानों पर लगाया जा रहा है जहां लोगों की नजर आसानी से पड़ जाए। अभी लॉ कॉलेज घाट से लेकर सिटी के 59 घाटों पर ऐसे बैनर पोस्टर टांग दिए गए हैं।

अर्घ्य देने के लिए तैयार हो रहे तालाब : छठ पर व्रतियों की सुविधा के लिए खाजेकलां घाट पर अस्थायी तालाब का निर्माण चल रहा है। एक दर्जन से अधिक मजदूर अस्थायी तालाब की सफाई कर रहे हैं। इसमें सीढ़ियां बनाने का काम पूरा हो चुका है। पहुंच पथ साफ हो चुका है। अर्घ्य के पहले तालाब में गंगा जल भरा जाएगा। माणिकचंद तालाब में साफ-सफाई का काम पूरा हो गया है। पानी में बैरिकेडिंग हो चुकी है। कंकड़बाग टेम्पो स्टैंड के पास स्थित शिवाजी पार्क में बनाए गए अस्थायी तालाब की सफाई हो चुकी है। अभी इसमें पानी नहीं है। अर्घ्य के पहले पानी डालकर उसमें गंगा जल भी डाला जाएगा। इसी तरह अन्य पार्कों और तालाबों में अर्घ्य अर्पित करने की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। कंकड़बाग, एनसीसी, बांकीपुर अंचल के इलाके में करीबन दर्जनों ऐसे छोटे-बड़े पार्क हैं, जिनमें छठ पूजन की व्यवस्था की जा रही है। जिन पार्कों में स्थाई तालाब हैं, उसकी सफाई से लेकर मरम्मत तक का काम लगभग पूरा हो चुका है।

संध्या अर्घ्य के दिन 3 बजे शाम से फ्री इंट्री : जू में झील के ऊपर की साफ-सफाई का काम लगभग पूरा हो चुका है। बैरिकेडिंग और लाइटिंग का काम चल रहा है। सोमवार तक जू की झील अर्ध्य के लिए तैयार हो जाएगी। जू में अर्ध्य के पहले दिन शाम तीन बजे से और दूसरे दिन अहले सुबह चार बजे से श्रद्धालुओं की इंट्री फ्री रहेगी।

जू के दोनों गेट से श्रद्धालुओं की इंट्री होगी। सुरक्षा के लिए जगह-जगह जू प्रशासन और पुलिस प्रशासन की तैनाती होगी। यहां करीबन दो से तीन हजार की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटती है। जू में जानवरों की सुरक्षा को लेकर पटाखे ले जाने पर पूरी तरह प्रतिबंध है। जू प्रशासन ने लोगों से अपील की है कि यदि कोई पटाखे लाते भी हैं तो प्रवेश गेट पर ही रखकर प्रवेश करें। जू में पटाखे के साथ पकड़े गए तो 200 रुपए जुर्माना संग कार्रवाई होगी।
शिवाजी पार्क, वृंदावन पार्क, किशोर कुणाल पार्क, जे सेक्टर, चंद्रशेखर पार्क, हनुमानगर सूर्य मंदिर पार्क, मांझी तालाब, एसबीआई कॉलोनी पार्क, ट्रांसपोर्टनगर पार्क, कृषि फोरम तालाब, कच्ची तालाब गर्दनीबाग, मानिकचंद तालाब, बीएमपी तालाब, चिल्ड्रेन पार्क, पेंशनर एसोसिएशन पार्क, न्यू पाटलिपुत्रा पार्क, बोर्ड कॉलोनी पार्क, एजी कॉलोनी पार्क, राजीवनगर पार्क, राजेन्द्रनगर, बुद्धमुर्ती सहित अन्य हैं।

एसडीओ योगेन्द्र सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा अनुमंडल के सुल्तानगंज थाना क्षेत्र से लेकर दीदारगंज थाना क्षेत्र के 12 घाटों को खतरनाक घोषित किया गया है। इनमें खाजेकला घाट, केशवराय घाट, मिरचाई घाट, अदरख घाट, गड़ेरिया घाट, पीरदमड़िया घाट, नंदगोला घाट, नुरउद्दीनगंज घाट, शिव घाट, महावीर घाट, नया पंच मुखिया चौराहा घाट व नया मंदिर घाट शामिल हैं।
अर्घ्य के लिए तैयार है माणिकचंद तालाब : अनीसाबाद स्थित माणिक चंद तालाब अर्घ्य के लिए तैयार हो चुका है। सफाई से लेकर सुरक्षा तक की तैयारियां पूरी हो गई हैं। सुरक्षा के लिए बैरिकेटिंग करने के अलावा वॉच टावर बनाए गए हैं। रोशनी का भी प्रबंध हो चुका है। यहां  लगभग 50 हजार से ज्यादा छठ व्रती भगवान सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने पहुंचते हैं। गर्दनीबाग स्थित कच्ची तलाबा पर सुरक्षा के दृष्टि से बैरिकेटिंग कर दिया गया है। साफ-सफाई का काम अभी पूरा नहीं हो पाया है। कई जगहों पर कूड़ा फैला है। गर्दनीबाग रोड नंबर दस में पंचमंदिर तालाब पर भी बड़ी संख्या में छठ व्रती पहुंचते हैं। तालाब में अभी पानी नहीं है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस वर्ष काम काफी धीमी गति से चल रही है। फुलवारीशरीफ प्रखंड तालाब में छठ को लेकर सफाई व बैरिकेटिंग का काम चल रहा है। इसके अलावा फुलवारीशरीफ प्रखंड के गोनपुरा, परसा, पुनपुन व जानीपुर में स्थानीय लोग श्रमदान से साफ-सफाई करने में जुटे हैं।

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close