देश विदेश

बिहारियों का मजाक बनाने पर कॉमेडियन जाकिर खान पर भड़कीं नीतू चंद्रा

स्टैंडअप कॉमेडियन ने 2014 में एक टीवी चैनल पर प्रसारित हुए अपने कॉमेडी शो के एक एपिसोड में कहा था, "हालांकि, मैं मजदूर जैसा दिखता हूं। मगर मैं बिहार से नहीं हूं।"

Get Rs. 40 on Sign up

बॉलीवु़ड एक्ट्रेस नीतू चंद्रा का शुक्रवार को स्टैंडअप कॉमेडियन जाकिर खान पर गुस्सा फूटा है। लोगों को हंसाने के लिए कॉमेडी में बिहारियों का मजाक बनाने पर उन्होंने जाकिर को जमकर खरी-खोटी सुनाई है। उन्होंने कहा है कि बिहार ने ढेर सारे फिल्मकार, अभिनेता, नौकरशाह और ‘मजदूर’ दिए हैं। हमें उन सभी पर नाज है।

वह यहीं नहीं रुकीं। आगे उन्होंने कॉमेडियन जाकिर को अनपढ़ बताते हुए कहा कि ये सारी बातें तुम्हारे समझ में नहीं आएंगीं। दरअसल, जाकिर ने 2014 में एक टीवी चैनल पर प्रसारित हुए अपने कॉमेडी शो के एक एपिसोड में कहा था, “हालांकि, मैं मजदूर जैसा दिखता हूं। मगर मैं बिहार से नहीं हूं।” मूल रूप से बिहार की एक्ट्रेस ने इसी पर बताया, “तो आप यह कहना चाह रहे हैं कि जो बिहार से होता है वह मजदूर होता है? ढेर सारे फिल्मकार, अभिनेता, नौकरशाह और ‘मजदूर’ बिहार से हैं और हमें उन पर बहुत गर्व है।”

बिहारियों को बदसूरत बताने को लेकर उन्होंने कॉमेडियन पर हमला बोला। कहा, “बिहार के लोगों को बदसूरत बताकर मेरे राज्य का मजाक उड़ाने की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई। हम बिहारी आमतौर पर बेवकूफों और बदसूरत लोगों के सामने चुप रहते हैं।”

अगले ट्वीट में एक्ट्रेस ने लिखा, “शत्रुघ्न सिन्हा, मनीष मुंद्रा, इम्तियाज अली, प्रकाश झा, नितिन चंद्रा और संदीप सिंह और कई सारे लोग बिहार से हैं। हमें उन पर नाज है। तुम अनपढ़। अपने खुद पर और अपने लालन-पालन पर शर्म करो! तुम्हारे घर वालों को भी शर्मिंदा होना चाहिए, क्योंकि तुम्हें तमीज नहीं है।”

 

नीतू ने आगे यह भी कहा कि जाकिर को कलाकार नहीं कहा जाना चाहिए। उन्होंने इस बाबत लिखा, “इन्हें आर्टिस्ट मत कहिए। आर्टिस्ट बेहद संवेदनशील होते हैं। ऐसा लगता है कि वह हर चीज को बेचने की कोशिश करते हैं। खुद को मुस्लिम बताते हुए कहते हैं कि वह आतंकवादी नहीं हैं। क्या इसका मतलब है कि बाकी मुस्लिम आतंकी है और वह नहीं? वह यह भी कैसे कह सकते हैं? सच में?”

टि्वटर पर दोनों के बीच छिड़ी जंग में कुछ और यूजर्स भी कूदे थे। वे भी जाकिर की तरह बिहारियों की आलोचना कर रहे थे। उनका कहना था कि बिहारियों को अपने साथ होने वाले भेदभाव के खिलाफ बोलना चाहिए। बाद में जब एक यूजर ने उनसे पूछा कि वह तब कहां थीं, जब बिहारी पीटे गए थे। शख्स ने आगे कहा, “आपने बिहार में हमेशा परफॉर्म करने के लिए पैसे मांगे हैं। आप अभी कैसे बता सकती हैं कि बिहारी क्या करते हैं और क्या नहीं।”

एक्ट्रेस बोलीं, “मैं कहूंगी कि यह आगे भी होगा। मैं ही वह हूं, जिसे बिहार से पिछले साल नेशनल अवॉर्ड मिला था और जब हिंसा हुई, तब मैं लड़ी। मेरे प्रिय मित्र..मैं बिहार से अंतर्राष्ट्रीय ताइक्वांडो खिलाड़ी भी हूं। तो आप मेरे घर आएं और गालियां देंगे? मैंने इसे पहले नहीं सुना था।”

नीतू को पिछले साल सर्वश्रेष्ठ मैथिली फिल्म की श्रेणी में ‘मिथिला मखान’ के लिए नेशनल अवॉर्ड मिला था। वह इस फिल्म की निर्माता थीं। हालांकि, जाकिर की ओर से अभी तक नीतू की टिप्पणियों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

 

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close