YMB SPECIAL

बिहार की पूरी विरासत को बयां करती एक कविता, सुनकर हर बिहारी को गर्व होगा

Get Rs. 40 on Sign up

हमारे बिहार की विरासत हमेशा से शौर्य, कला और विद्वता के लिये जानी जाती रही है. शौर्य में जहाँ हमारे पास गुरु गोविंद सिंह और वीर कुंवर सिंह थे. कला और विद्वता में हमारे पास दिनकर, रेणु, विद्यापति, भिखारी ठाकुर, बिस्मिल्लाह खान थे। बिहार की धरती ने जयप्रकाश नारायण, लोहिया और राजेंद्र प्रसाद जैसे नेता भी दिये हैं.

दिल्ली के एक कवि सम्मेलन में बिहार के कवि शम्भू शिखर ने बस एक कविता के जरिये ही बिहार की अपनी पूरी विरासत से बिहारियों को अवगत करा दिया. बिहार के शौर्य, पराक्रम, बुद्धिमता और विद्वता को जानने के लिये एक छोटी सी यह कविता काफ़ी है. यह सुनने के बाद हर बिहारी का सीना गर्व से चौड़ा हो जायेगा.

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Close