YMB SPECIAL

वो 15 गाने, जिनके बिना छठ पूजा अधुरा सा लगता है

Get Rs. 40 on Sign up

छठ पूजा. लोक आस्था का महापर्व. यही तो कहते हैं इसे. पूरे बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश का त्योहार, जिसे लोग पूरे धूम-धाम के साथ मनाते हैं. श्रद्धा इतनी कि जिस परिवार में छठ पूजा होती है, उसका हर एक सदस्य हर कीमत पर घर पहुंचने की कोशिश करता है. इस त्योहार को मनाने वाले बिहार और पूर्वी यूपी के लोग जहां भी गए, इस त्योहार और इससे जुड़ी चीजों को अपने साथ ले गए. उनकी परंपराओं के साथ गए कुछ गाने, जो छठ पूजा की पहचान बन गए हैं.

साल बदलता है, तो कुछ नए गाने भी बाजार में आ जाते हैं. बात ऐसे ही पांच गानों की जो इस साल खास तौर पर छठ पूजा के लिए बनाए गए हैं. इनमें श्रद्धा और भक्ति के साथ ही व्रत और त्योहार की खासियत भी बताई गई है.

सबसे पाहिले तो इ गीत सुनिए, इ हमार फेवरेट है 

 

1 कबहूं ना छूटी छठ

इस गाने के बोल हैं
कबहूं ना छूटी छठ मइया, हमनी से वरत तोहार
तोहरे भरोसा हमनी के, छूटी नाहीं छठ के त्योहार
इस गाने को गाया है बॉलीवुड की मशहूर प्लेबैक सिंगर अलका याज्ञनिक ने. इसका फिल्मांकन कुछ इस तरह किया गया है कि बिहार की लड़की की शादी पंजाब के एक परिवार से होती है. पंजाबी परिवार भले ही छठ नहीं करता है, लेकिन बहू बिहार की है, तो उसे छठ करने के लिए परिवार के लोग पूरी तैयारी करते हैं. गाने में भरोसा दिलाया गया है कि परिवार चाहे कहीं भी रहे, वो छठ करता रहेगा. आप भी पूरा गाना देखिए-

2 छठ माई के महिमा

इस गाने के बोल हैं
छठि माई के घटवा पर आजन-बाजन बाजा बजवाइब हो.
गोदिया में होइहें बलकवा, त अरघ देबे आईब हो
इस गाने को गाया है भोजपुरी के सुपर स्टार कहे जाने वाले पवन सिंह ने. गाने के बोल और वीडियो में बताया गया है कि कुछ महिलाएं छठ करने के लिए घाट पर जा रही हैं. इनमें वो महिलाएं भी शामिल हैं, जिनके बेटे हैं. लेकिन एक दंपती को बेटा नहीं है. गाने में महिला कहती है कि वो भी पूरे गाजे-बाजे के साथ छठ पूजा करेगी और उसे जब बच्चा होगा तो वो अर्घ्य देने के लिए छठ घाट पर आएगी. सुनिए पूरा गाना-

. गूंजेला गीत छठि माई

इस गाने के बोल हैं
चाहे समंदर या तलवा तलैया, हर घाटे होखे ला छठ के पूजैया
गउवां चाहे देख कौनौ शहर, जयकारा ठहरे -ठहर मइया जी राउर सगरो
इस गाने को भी पवन सिंह ने ही गाया है. गाने में बताया गया है कि छठ करने वालों को चाहे समंदर मिले, कोई छोटी सी नदी मिले, कोई ताल हो या फिर पानी का छोटा सा भी स्रोत, हर जगह छठ करने वाले लोग अर्घ्य देते हैं. छठ को मां माना गया है, इस लिहाज से उनका जयकारा हर जगह और हर शहर में लगाया जा रहा है. पूरा गाना यूं है-

4. केरवा जे फरे ला घवद से

इस गाने के बोल हैं
केरवा से फरे ला घवद से, ओहपर सुगा मेडराय.
मारबो रे सुगवा धनुष से, सुगा गिरे मुरुझाय.
इस गाने को गाया है भोजपुरी गायिका कल्पना पटवारी ने. गाने के बोल तो पुराने हैं, लेकिन इस वीडियो नया आया है. इस वीडियो में एक मुस्लिम महिला छठ पूजा कर रही है. इस गाने को खूब पसंद किया जा रहा है. छठ पूजा करने वाले लोग भी इसे शेयर कर रहे हैं और लोगों को वीडियो दिखाकर छठ पूजा के बारे में बता रहे हैं. आप भी सुनिए पुराना गाना, बिल्कुल नए अंदाज में-

5. बेरी -बेरी बिनई अदित देव

गाने के बोल हैं
बेरी-बेरी बिनई अदित देव, मनवा में आह लाई
आजु लेके पहली अरघिया, त कालु भोरे जल्दी आईं.
इस गाने को गाया है भोजपुरी गायिका अंजना राज ने. गाने में एक महिला सूर्य से प्रार्थना कर रही है. उसकी नई-नई शादी हुई है, वो कह रही है कि जल्द ही सूर्यास्त हो सके, जिससे कि वो अपना पहला अर्घ्य देकर अपने घर जा सके. ऐसा इसलिए है कि उसे अगले दिन भी सूर्योदय के समय अर्घ्य देने के लिए छठ घाट पर आना है. देखिए वीडियो-

इसके अलावा पांच ऐसे भी नए गाने हैं, जिनमें भक्ति तो है, लेकिन जब ये डीजे पर बजते हैं, तो आप नाच भी सकते हैं.

1. दिल्ली से कहिया गाड़ी धरब जी

इस गाने के बोल हैं
दिल्ली से कहिया गाड़ी धरब जी, छठ हमहूं करब राजाजी
अंगना में हमहूं कोसी भरब जी, छठ हमहूं करब राजाजी
इस गाने को भोजपुरी गायक प्रवीण सम्राट ने गाया है. गाने में महिला अपने पति से घर आने के बारे में पूछ रही है. वो अपने पति को बता रही है कि उसे भी छठ करना है और वो अपने आंगन में ही पूजा करेगी. इसलिए वो उसे बता दे कि घर आने के लिए वो कब ट्रेन पकड़ रहा है.

2.खरना से पहिले अइह हो

गाने के बोल हैं
राजा सुनिल बात, छोड़ बोलल झूठ-सांच, कह के जे ना तू अइब, के दौरा उठाइ माथ
जेह दिने गोरिया नहा खइबू, खरना से पहिले हमके पा जइबू
इस गाने को भी प्रवीण सम्राट ने ही गाया है. पत्नी को छठ करना है, लेकिन उसका पति पिछले चार साल से घर नहीं आया है. पत्नी पूछ रही है कि इस बार अगर वो घर नहीं आया, तो छठ घाट पर उसे लेकर कौन जाएगा. पति उससे कहता है कि वो हर हाल में खरना (अर्घ्य से एक दिन पहले का दिन) के दिन घर आ जाएगा.

3.उगी ए सुरूज देवता पटना के घटिया हे

इस गाने के बोल हैं
जल बीच खाड़ा तिवई जोहतड़ी बटिया हे, उगी ए आदित गोसइयां छपरा के घटिया हे
फल-फूल सिपुही में ले के, अछत, चौरा सठिया हे, उगी ए सुरूज देवता, पटना के घटिया हे
इस गाने को गाया है भोजपुरी के सुपर स्टार खेसारी लाल यादव ने. गाने के बोल हैं कि महिला गंगा नदी के पानी में खड़े होकर सूर्योदय का इंतजार कर रही है. सूर्योदय का इंतजार इसलिए कि सूर्य उगें और महिला अर्घ्य देकर अपने घर जा सके. गाने में गंगा नदी के तट पर बसे अलग-अलग शहरों का जिक्र किया गया है.

4.नरियरवा ले अइह ए राजाजी

गाने के बोल हैं
छठके परब हमहू करब, सइयां अबकी बार के
नरियरवा ले अइह बलम जी, आरा के बाजार
इस गाने को गाया है भोजपुरी गायिका अनु दूबे ने. गाने में महिला के पहली-पहली बार छठ करने का जिक्र है. वो अपने इसके लिए अपने पति से कहती है कि वो पूजा के लिए आरा (बिहार का एक शहर) के बाजार से उसके लिए नारियल लेते आएगा. इसके अलावा महिला अपने पति से व्रत करने के लिए अलग-अलग चीजों की डिमांड करती है.

 

5. घरे-घरे ठेकुआ छनाता

इस गाने के बोल हैं
लइका सेयान सब करता सफाई, शोर भइल सगरी अइली छठि माई
घटिया पर चननी तनाता कि घरे-घरे ठेकुआ छनाता, कि छठि माइ के गाना सुनाता
इस गाने को गाया है भोजपुरी गायक खेसारी लाल यादव ने. गाने में छठ की वजह से आस-पास के इलाकों में साफ-सफाई का जिक्र किया गया है. छठ पूजा करने के लिए प्रसाद के तौर पर खास तौर पर ठेकुआ (आटा और चीनी से बना एक तरह का खाद्य पदार्थ) बनता है, जो हर घर में बन रहा है. इसके अलावा और भी तैयारियां चल रहीं हैं.

ये तो गाने 2017 में आए हैं. लेकिन जब से छठ का त्योहार शुरू हुआ है, तब से गाने बज रहे हैं. इन पांच गानों के बिना तो किसी भी साल का छठ पूरा ही नहीं हो सकता. इन्हें आप भी सुनिएः

1.केलवा के पात पर उगेले सुरुज मल झांके-झुके

गाने के बोल हैं
केलवा के पात पर उगे ले सुरुज मल झाके-झुके
ए करेलू छठ बरतिया सेवा के भूखे
इस गाने को गाया है शारदा सिन्हा ने, जिन्हें पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा जा चुका है.

2.कांचहि बांस के बहंगिया

इस गाने के बोल हैं

कांचहि बांस के बहंगिया, बहंगी लचकत जाए
बाट जे बटोहिटया, बहंगी केकरा के जाए

तू त आनहर हवउे रे बटोहिया, बहंगी छठ माई के जाए
इस गाने को गाया है भोजपुरी की गायिका देवी ने. हालांकि इसे भोजपुरी के लगभग सभी गायकों-गायिकाओं ने गाया है.

3. नरियरवा जे फरेला घवद से

गाने के बोल हैं

नरियरवा जे फरेला घवद से, ओहपर सुगा मेडराय
उ जे खबरी जो देबे सुरुज के, सुगा दिहें जूठियाय
सुगवा जे मरबे धनुष से, सुगा गिरे मेडराय
इस गाने को भी शारदा सिन्हा ने ही गाया है. उनके अलावा भी कई लोग इसे गा चुके हैं.

4.पहिले पहिल छठ

गाने के बोल हैं
पहिले पहिल हम कईनी छठी मइया बरत तोहार
गोदी के बलकवा के दीह, छठि मइया ममता-दुलार
इस गाने को भी शारदा सिन्हा ने गाया है. इसमें छठ माता से परिवार के लिए सुख-समृद्धि की मांग की गई है.

5.घुंटी भर धोती भीजें

गाने के बोल हैं

चाननी तान चलेले महादेव, घुटीं भर धोती भींजे
भीजता त धोती मोरी भीजे देव, चाननी मोरा नाहीं भीजें
कोसी भर चलेली गौरा देई, सवा लाख के साड़ी भीजें
भीजता त साड़ी मोरा भीजे देव, कोसी मोरा नाहीं भीजें
इस गाने को भोजपुरी गायिका अनु दूबे ने गाया है. इसमें भगवान शिव और मां पार्वती के छठ की पूजा का जिक्र है.

तो आप भी इन गानों को सुनिए, नाचिए-झूमिए और छठ व्रत का आनंद लीजिए छठ पूजा पर बनी शोर्ट फिल्म देखें के लिए YMB PLAY पर क्लिक कीजिये- क्लिक हियर

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close