बिहार समाचार

सात निश्चय पर आगे बढ़ेगी सरकार, काम नहीं करने वाले अफसर नपेंगे

Get Rs. 40 on Sign up

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के आला अधिकारियों से दो टूक कहा है कि विकास की गति को और तेज करें। साथ ही सात निश्चय के कार्यक्रमों को समय पर पूरा करें। मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी कि काम नहीं करने वाले अधिकारी बख्शे नहीं जाएंगे। उन्होंने नई सरकार के गठन के  बाद बुधवार को सुबह 11 बजे से राज्य सरकार के मंत्रियों के साथ पहली बैठक की।

  • एनडीए ने भी जताई सहमति, केन्द्र से अधिक सहायता हासिल करने पर जोर
  •  नई सरकार के मंत्रियों के साथ मुख्यमंत्री ने की पहली सामूहिक बैठक
  • सरकार के विभिन्न विभागों के आलाधिकारियों के साथ भी की बैठक
  • कहा, राज्य के विकास की गति को और तेज करें, केंद्र से सहयोग लें

बैठक में एनडीए कोटे के मंत्रियों ने भी माना कि मुख्यमंत्री के सात निश्चय जनता और राज्य के व्यापक हित में हैं और इसलिए राज्य सरकार इस पर तेजी से आगे बढ़ेगी। बैठक में यह भी तय हुआ कि राज्य के तेज गति से विकास के लिए विभिन्न योजनाओं में केन्द्र सरकार से अधिक से अधिक सहायता हासिल करने के प्रयास तेज किए जाएं। मुख्यमंत्री ने दूसरी बैठक शाम चार बजे इसे सभी विभागों के आलाधिकारियों के साथ की।

मुख्यमंत्री ने नई सरकार के गठन के साथ ही राज्य के शासन-प्रशासन को चुस्त- दुरुस्त बनाने और विकास के कार्यों को गति देने की कवायद तेज कर दी है। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों के साथ बैठक में कहा कि बिहार का तेजी से विकास करना ही हमारा मुख्य लक्ष्य है। केंद्र और राज्य में अभी एक सरकार है। हमारे पास पूरा मौका है कि केंद्र से सहयोग लेकर बिहार के विकास की गति और करें। राज्य को नयी ऊंचाइयों तक ले जाएं। मंत्रियों से कहा कि वे सात निश्चय के कार्यक्रमों को धरातल पर उतारने का संकल्प लें और अपने-अपने विभागों के कार्यों की निरंतर मॉनिटरिंग करें। कहीं कोई भी दिक्कत आये तो मंत्री सीधे मुझसे कहें।

मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों के साथ बैठक में कहा कि केंद्र प्रायोजित योजनाओं की अद्यतन स्थिति की समीक्षा करें और देखें कि कहां-कहां हमें केंद्र से किस मद में पैसे लेने है। इसका प्रस्ताव बनायें और केंद्र को भेजें। ताकि बिहार में विकास की योजनाओं को गति मिले। कहा कि मैं जल्द ही आपलोगों के साथ फिर बैठक करूंगा और स्थिति की समीक्षा करूंगा। उन्होंने पदाधिकारियों से कहा कि विधानमंडल के सत्र में प्रश्नकाल और कार्यवाही के दौरान विभाग के वरीय अधिकारी पदाधिकारी दीर्घा में अवश्य उपस्थित रहें। दो घंटे तक चली बैठक में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी समेत तमाम मंत्रियों ने भी अपनी बात रखी।

बिहार में है दोहरे अंक की विकास दर 
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2016-17 में बिहार की विकास दर वर्तमान दर की 14.8 और स्थिर दर की 10.32 फीसदी है। बिहार में दोहरे अंक की विकास दर है, यह खुशी की बात है। बिहार में प्रति व्यक्ति आय में वर्तमान दर में 13.15 फीसदी की वृद्धि हुई है। प्रति व्यक्ति आय के विकास में बिहार दूसरे नंबर पर है। धरातल पर लागू की गयी हमारी योजनाओं का बड़ा प्रभाव पड़ा है, जिस कारण उक्त वृद्धि हुई है। राज्य के कसबों में स्कूल भवनों के निर्माण बड़े पैमाने पर हुए, जिससे रोजगार पैदा हुए। विकेंद्रीकृत तरीके से योजनाओं को लागू करने से ऐसा हुआ।
उच्च शिक्षा में नामांकन बढ़ाना मकसद
मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में उच्च शिक्षा में नामांकन का अनुपात देश के मुकाबले कम है। उच्च शिक्षा में नामांकन बढ़ाना हमारा उद्देश्य है। इसी के तहत स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना शुरू की गई है, जिसकी समीक्षा भी जल्द होगी। पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि भूमि संबंधी मामलों के निष्पादन में विशेष ध्यान दें। इससे समाज में शांति आएगी। विभाग के संसाधनों के उपयोग पर नजर रखें।

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close