बिहार समाचार

34वीं कालचक्र पूजा की तैयारी पूरी, चालीस हजार से अधिक पहुंचेंगे लामा

Get Rs. 40 on Sign up
34वें कालचक्र पूजा की शुरुआत सोमवार को दलाई लामा के नेतृत्व में कालचक्र मैदान में होगी। इसके लिए सभी तैयारी पूरी हो चुकी है। श्रद्धालुओं के बैठने के लिए कालचक्र मैदान में मुख्य पंडाल बनाया गया है। वहीं दलाई लामा के लिए कालचक्र अनुष्ठान के लिए नया मंच बनाया गया है।
44 सौ वर्गफुट में बना मंच…
यहां उनके साथ नामग्याल के वरीय बौद्ध लामा सहित अन्य शीर्ष धर्मगुरु अतिविशिष्ट अतिथि के बैठने की भी व्यवस्था है। दलाईलामा यहीं से श्रद्धालुओं को संबोधित करेंगे। कालचक्र पूजा को लेकर श्रद्धालुओं का बोधगया आना जारी है। 40 हजार से अधिक लामाओं के पहुंचने की सूचना है।
मैदान में 14 गेट से प्रवेश कर सकेंगे श्रद्धालु
ढाई लाख वर्ग फिट में मुख्य पंडाल बनाया गया है, जहां 60 हजार श्रद्धालुओं के बैठने की व्यवस्था है। इसे वाटर प्रूफ बनाया गया है। मैदान में कुल 14 गेट बनाए गए है सभी पर डोर मेटल डिटेक्टर के साथ सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। यहां बड़े आकार के 15 एलसीडी टीवी डिस्प्ले बोर्ड लगाए गए हैं। साउंड सिस्टम भी लगाए गए हैं।
सुरक्षा व्यवस्था कड़ी
कालचक्र पूजा को लेकर जबरदस्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है। रविवार को एसएसबी के जवानों ने फ्लैग मार्च किया। सुरक्षा को लेकर एंटी टेररिस्ट स्क्वायड के अलावा एनएसजी के कमांडो भी तैनात किए गए हैं। बोधगया सात जोन 21 सब जोन में बांटा गया है। 2500 बिहार पुलिस के जवान, 20 डीसीपी, 50 इंस्पेक्टर, 200 सब इंस्पेक्टर, 600 मजिस्ट्रेट एक हजार पारा मिलिट्री के जवानों को कालचक्र पूजा में लगाया गया है।
 
आठ भाषाओं में कालचक्र पूजा की होगी लाइव वेबकास्टिंग
कालचक्र पूजा का आठ भाषाओं में लाइव वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई है। यह हिंदी, तिब्बती, अंग्रेजी, चाइनिज, वियतनामी, कोरियन, मंगोलियन रशियन में होगा। इसके अलावा एफएम रेडियो पर लाइव प्रसारण की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। कालचक्र अनुष्ठान का केवल अंग्रेजी, तिब्बती चाइनिज में लाइव वेबकास्टिंग होगा।

Write your Comments here

comments

Show More
रहें चौबीसो घंटे बिहार और देश दुनिया की ख़बरों से अपडेट, फेसबुक पेज जरुर लाइक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close